Annamrita Food for Life अब दैनिक 1.2 मिलियन शाकाहारी भोजन परोस रही है

1863 में, लुडविग एंड्रियास फेउरबैक (एक जर्मन दार्शनिक) ने लिखा था "मनुष्य वही है जो वह खाता है"। वह कह रहा था कि जो खाना वह खाता है, वह मन और स्वास्थ्य की स्थिति पर असर डालता है। Food for Life Global सहयोगी, कृष्णा
पढ़ना जारी रखें